रविवार, अगस्त 29

What is KYC? KYC Types, and KYC Importance

अगस्त 29, 2021 0

 What is KYC:  KYC Types, and KYC Importance
What is KYC
What is KYC

  • What is KYC: Types, and Importance

Since the year 2004, RBI or India's Federal Reserve Bank has made it compulsory that each one Indian financial institutions, banks, and other financial organizations verify both the identity and address of all customers who are to hold out any quite financial transactions with them. to try to to so without too many logistical inefficiencies, the KYC process was introduced by the RBI because the only mode of verification. Hence, KYC aiming to ‘know your customer’ is an efficient thanks to streamline the method of verifying the authenticity of one’s customer.
  • What is KYC?

In answer to the question ‘what is KYC’, KYC full form is ‘Know Your Customer.’ it's a verification process that permits an establishment to verify and thereby verify the authenticity of their customer. This authenticity is to make certain of the identity and therefore the address of the customer. To verify their identity and address, a customer of the financial service are going to be required to submit their KYC documentation before they start investing during a sort of instruments like fixed deposits, mutual funds, and bank accounts through the portal of the financial organization .

    Every existing and authorized financial organization , bank, or other organization where financial transaction are administered is remitted by the RBI to try to to the KYC process for all customers before giving them the proper to hold out any financial transactions. Whether one KYC online verification or opts for offline KYC, this is often simply a one-time process that comes as part and parcel of opening a Demat account, trading account checking account , and more such financial instruments.
    • KYC Importance

    Now that we understand that KYC exists for each financial organization in India, here’s why KYC is vital . one among the most reasons why KYC is vital is that it's quite good at ensuring that financial bodies aren't getting used to hold out concealment activities of any kind. concealment typically happens unbeknownst to the financial authority whose platform is getting used for such activities. With KYC online verification and offline KYC authentication in situ , banks can catch any potential concealment rings.

      Another reason why KYC is vital is that there are many non-individual customers that use financial services like trading, open-end fund investment, and more. With KYC, banks, and financial institutions, and brokerages, among others have the proper to verify the status of that entity. this will include cross-checking their operating address and verifying the identities of their beneficial owners and authorized signatories.

        In addition to learning whether these companies are authentic, the KYC process also requires that one detail the character of their employment also because the business administered by the customer. This information is additionally useful in verifying how authentic the individual and/or company is. Before all this information is provided, the KYC verification mandates that one cannot open a checking account , trading account, demat account, or any of the likes of .
        • Types of KYC

        There are two sorts of KYC verification processes. Both are equally good, and it's simply a matter of convenience whether one chooses to choose one type over the opposite . Both are as follows:
        • Aadhaar-based KYC

        Aadhar based KYC may be a verification process which will be administered online, making it highly convenient for those with an online connection. because the name suggests, one must upload a scanned copy of their original Aadhar card for this sort of KYC. Suppose one wishes to take a position during a open-end fund . With Aadhar based KYC the chance to try to to so is merely up to ₹50,000 a year.
        • In-Person Verification KYC:

        If one wishes to take a position more in mutual funds per annum , they're going to be required to hold out an in-person verification KYC. Unlike the web verification mode detailed earlier, in-person verification KYC is administered offline. To do so, the customer can prefer to visit a KYC kiosk, or open-end fund house and authenticate their identity using Aadhar biometrics. One also can call the KYC registration agency to send an executive to their home or office to hold out this verification. Some open-end fund houses also offer in-person verification open-end fund KYC via video call where the customer is required to display their original Aadhar card and address documents.
        • Why Should I perform my KYC?

        Now that we’ve understood the meaning, significance, and kinds of KYC verification we will choose , why should one undergo with it on a private level. Essentially, to be ready to perform any financial transaction one will need to go forth with KYC. once you get your KYC verification process done, you've got given the financial organization who has conducted the test information about your identity, address, and financial history. this will aid the bank in knowing that the cash you chose to take a position wasn't one so for any illegal or concealment related purpose.

        At an equivalent time, the logical reason for why you ought to perform your KYC is that there's no way during which a bank will open your account, a brokerage will open your Demat or trading account, a financial organization will allow you on their platform without doing this. If you would like to require out a loan, invest in mutual funds, start a hard and fast deposit, trade on the stock exchange , and the other thing that has got to do with financial transactions, you're required to hold out your KYC.

          Keep in mind that with KYC for mutual funds in specific, these fund houses can make the in-person verification for you very streamlined. you merely get on a video call and show your identity and address proof documents to the KYC executive on the opposite end. This completes the one-time verification process required to trade per annum . the sole time you'll got to repeat your KYC verification is once you need to update it with new information. just in case you legally change your name or shift to a replacement address, your open-end fund KYC would require an update, as will your KYC verification for the other financial transaction.

          What are the Required for kyc documents

          अगस्त 29, 2021 1

            What are the Required for kyc documents

          kyc documents
          kyc documents
          KYC or ‘know your customer

          kyc documents may be a mandatory verification procedure administered by any banks, financial institutions, and other Indian organisations with the goal of minimising illegal activities like concealment . Since the year 2004, the Federal Reserve Bank of India has made it illegal to permit a person or entity to open a checking account , trading account or demat account without fulfilling the procedure for KYC. Not only is KYC verification an incredibly easy and standardized thanks to verify the identity of a customer, but it's also just a one-time step needed before one can perform their financial transactions.


          Essentially, to be ready to perform any financial transaction one will need to go forth with KYC. once you get your KYC verification process done, you've got given the financial organization who has conducted the test information about your identity, address, and financial history. this will aid the bank in knowing that the cash you chose to take a position wasn't one so for any illegal or concealment related purpose.


          This brings us to the procedure required to hold out KYC verification. a particular list of documents required for KYC got to be secured beforehand so one can undergo their KYC verification with none hiccups. Even when one is trying to take a position in mutual funds for the primary time, or for the primary time through an organisation, they're going to be required to undergo the KYC verification process. This process at the most will take at some point after which one can go forth with their mutual funds investments. However, make sure you keep the subsequent KYC documents handy before proceeding.


          kyc documents list

          The following list of documents is required to finish one’s KYC verification procedure. These documents got to be submitted as hard or scanned copies depending upon the sort of KYC one has selected to try to to . There are two broad sets of  Required for kyc documents: one’s proof of identity and their proof of address. Documents required for KYC for identity and address proof can overlap, but they typically vary. The documents required for KYC are as follows:


          1. kyc documents for Identity Proof

          The UID or unique number that comes with one’s Aadhar card. One also can use their voter ID, passport, or driver's license .

          One’s PAN card with their photograph

          An card or essential document bearing the photo of the applicant. confine mind that the document must be issued by the State or Central Governments, their departments, or any Regulatory or Statutory bodies.

          An card that's issued by scheduled commercial banks, public sector undertakings, or any public financial institutions is additionally valid.

          Finally, identity cards that are issued by one’s college, as long as college is affiliated with Universities, or any identification document provided by professional bodies just like the ICWAI, ICAI, Bar Council, ICSI, etc. to their students is additionally considered a legitimate KYC card .

          Any credit or open-end credit issued by a bank to a private bearing the individual’s name and address is additionally considered as a legitimate kyc documents.


          2. kyc documents for Address Proof

          Voter’s card/Passport/Driving License/ Registered Sale Agreement or Lease on one’s residence/Maintenance bill for one’s flat/Copy of an insurance.
          Bills for utilities also are considered valid address proof for KYC. This includes one’s electricity or gas bill, their phone bill , and their bill for water consumption. confine mind that these bills must not be quite three months old.
          A self-declaration provided by the supreme or supreme court judges that provides the applicant a replacement address as per their own accounts is required just in case the applicant is convicted for any reason.
          Address proof for KYC also can be issued by any of the subsequent entities: the bank managers of Scheduled co-operative banks/scheduled commercial banks/ Gazetted Officers/ Multinational Foreign Banks/Notary public/Documents issued by any Statutory Authority or government/any representatives that are elected to the legislature or Parliament.
          Address proof for KYC also can be issued on an card by any of the subsequent entities: the following: Statutory/Regulatory Authorities, Public Financial Institutions, Public Sector Undertakings, Central and/or government or any of its Departments, Scheduled Commercial Banks.
          Finally, identity cards with the address printed on them that are issued by one’s college, as long as college is affiliated with Universities, or any identification document provided professional bodies just like the ICWAI, ICAI, Bar Council, ICSI, etc. to their students is additionally considered a legitimate kyc documents.
          For any sub account or FII, the facility of the Attorney that's given to the Custodians by the FII/sub-account with the registered address must be taken. Custodians got to be duly notarized and/or consularized for an equivalent .
          Address proof for KYC within the name of one’s spouse is additionally accepted as a legitimate kyc documents.

          Types of kyc documents verification

          Now that we all know the RBI kyc documents list, there are two sorts of KYC verification processes. This variety is for the rationale that the govt wishes to make sure that each customer with a checking account has got to undergo the KYC process. Both are equal in terms of their authenticity and it's simply a matter of convenience whether one chooses to choose one type over the opposite .

          The first sort of KYC verification is Aadhaar-based KYC. Aadhar based KYC may be a verification process which will be administered online, making it highly convenient for those with an online connection. because the name suggests, one must upload a scanned copy of their original Aadhar card for this sort of KYC. Suppose one wishes to take a position during a open-end fund . With Aadhar based KYC the chance to try to to so is merely up to ₹50,000 a year. If one wishes to take a position more in mutual funds per annum , they're going to be required to hold out an in-person verification KYC.

          Unlike the web verification mode detailed earlier, in-person KYC verification is administered offline. To do so, the customer can prefer to visit a KYC kiosk, or open-end fund house and authenticate their identity using Aadhar biometrics. One also can call the KYC registration agency to send an executive to their home or office to hold out this verification. Some open-end fund houses also offer in-person verification open-end fund KYC via video call where the customer is required to display their original Aadhar card and address documents.

          शनिवार, अगस्त 28

          Nifty में निवेश कैसे करें - ट्रेडिंग टिप्स

          अगस्त 28, 2021 1

          Nifty में निवेश कैसे करें

          Nifty


          Nifty में निवेश कैसे करें - ट्रेडिंग टिप्स 

          Nifty 50 भारत के व्यापक बाजार बेंचमार्क सूचकांकों में से एक है जो नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध 50 सबसे बड़ी कंपनियों के मूल्य आंदोलनों को ट्रैक करता है। व्यापारियों द्वारा व्यापक रूप से शेयर बाजार के प्रदर्शन को मापने के लिए इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।


          Nifty को शेयर बाजार के प्रदर्शन का एक अच्छा संकेतक क्यों माना जाता है, इसका एक प्राथमिक कारण यह है कि यह 14 विभिन्न क्षेत्रों की कंपनियों को कवर करता है। इसके परिणामस्वरूप, एक निवेशक जो अपनी पूंजी Nifty 50 इंडेक्स में निवेश करता है, मूल रूप से खुद को एक ही बार में विविध प्रकार की कंपनियों में उजागर कर सकता है और बदले में अपने निवेश जोखिम को काफी कम कर सकता है।


          लेकिन फिर, Nifty में निवेश कैसे करें? चूंकि यह एक इंडेक्स है, आप इसे सीधे किसी कंपनी के स्टॉक की तरह नहीं खरीद सकते। हालांकि, ऐसे अन्य तरीके भी हैं जिनसे आप सूचकांक का उपयोग इसके आंदोलनों से लाभ प्राप्त करने के लिए कर सकते हैं। और ठीक यही हम आगे संबोधित करेंगे।

           Nifty में ट्रेडिंग कैसे करें?

          Nifty इंडेक्स में आप दो प्राथमिक तरीके से निवेश कर सकते हैं - डेरिवेटिव के माध्यम से और म्यूचुअल फंड के माध्यम से। आइए इन दोनों तरीकों को गहराई से देखें।

          डेरिवेटिव के माध्यम से Nifty में निवेश

          Nifty डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट्स जैसे फ्यूचर्स और ऑप्शंस में उक्त इंडेक्स अंतर्निहित परिसंपत्ति के रूप में होता है। इसका अनिवार्य रूप से अर्थ यह है कि डेरिवेटिव का मूल्य आंदोलन सूचकांक से जुड़ा हुआ है। इन डेरिवेटिव्स में ट्रेडिंग करके, आप इंडेक्स के प्राइस मूवमेंट से प्रभावी रूप से लाभ उठा सकते हैं।


          उसने कहा, यहाँ कुछ ऐसा है जिस पर आपको ध्यान देना चाहिए। चूंकि सूचकांक एक स्टॉक नहीं है, आप इसके डेरिवेटिव अनुबंधों की समाप्ति पर इसकी डिलीवरी नहीं ले सकते। इसके बजाय, सभी इंडेक्स डेरिवेटिव्स को समाप्ति के अंत में अनिवार्य रूप से नकद-निपटान किया जाएगा।


          अब जब आप डेरिवेटिव के माध्यम से Nifty में निवेश करने के मूल विचार से परिचित हो गए हैं, तो आइए थोड़ा गहराई से समझें और यह समझने की कोशिश करें कि वायदा अनुबंधों और विकल्प अनुबंधों के माध्यम से Nifty में कैसे व्यापार किया जाए।

          फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स के जरिए Nifty में निवेश

          यदि आपके पास Nifty इंडेक्स पर एक तेजी या मंदी की दृष्टि है, तो आप मूल्य आंदोलनों से लाभ प्राप्त करने के लिए इंडेक्स फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट्स का उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, मान लें कि Nifty वर्तमान में 01 नवंबर, 2020 को 12,000 पर कारोबार कर रहा है। आपके पास एक तेजी का दृष्टिकोण है और इसलिए उम्मीद है कि सूचकांक समाप्ति के आसपास लगभग 13,000 तक बढ़ जाएगा।


          अब फ्यूचर्स का उपयोग करके Nifty में कैसे ट्रेड करें? यहां कुछ Nifty ट्रेडिंग टिप्स दिए गए हैं। आपको बस इतना करना है कि Nifty नोव फ़ुट कॉन्ट्रैक्ट को 12,000 पर खरीदना है। और यदि सूचकांक आपकी अपेक्षाओं के अनुसार चलता है और अनुबंध समाप्त होने से पहले 13,000 को छूता है, तो आप बस अपनी स्थिति को स्क्वायर-ऑफ कर सकते हैं और लाभ का आनंद ले सकते हैं।


          इसी तरह, आइए अब मान लें कि आपके पास एक मंदी का दृष्टिकोण है और इसलिए उम्मीद है कि सूचकांक समाप्ति के आसपास लगभग 11,000 तक गिर जाएगा। आप इस मामले में क्या करते हैं? क्या आप अभी भी इंडेक्स फ्यूचर्स का उपयोग कर सकते हैं? निःसंदेह तुमसे हो सकता है। यहाँ एक अच्छी छोटी Nifty ट्रेडिंग रणनीति है। इस मामले में आपको बस इतना करना है कि निफ्टी नोव फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट को 12,000 पर शॉर्ट-सेल करें। यदि सूचकांक आपकी अपेक्षाओं के अनुसार चलता है और अनुबंध समाप्त होने से पहले 12,000 से नीचे गिर जाता है, तो आप बस अपनी स्थिति को स्क्वायर-ऑफ कर सकते हैं और लाभ का आनंद ले सकते हैं।


          विकल्प अनुबंधों के माध्यम से Nifty में निवेश

          जिस तरह आपने फ्यूचर्स का इस्तेमाल किया, उसी तरह आप Nifty ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट्स का इस्तेमाल प्राइस मूवमेंट से मुनाफा कमाने के लिए भी कर सकते हैं। आइए उसी उदाहरण का उपयोग करें जिसका हमने ऊपर उपयोग किया था। मान लें कि निफ्टी वर्तमान में 01 नवंबर, 2020 को 12,000 पर कारोबार कर रहा है। आपके पास एक तेजी का दृष्टिकोण है और इसलिए आप उम्मीद करते हैं कि सूचकांक समाप्त होने तक लगभग 13,000 तक बढ़ जाएगा।


          अब विकल्पों का उपयोग करके Nifty में कैसे निवेश करें? क्या कोई निफ्टी विकल्प युक्तियाँ हैं जिनका आप उपयोग कर सकते हैं? हाँ वहाँ है। आप अपनी पसंद के स्ट्राइक प्राइस के साथ इंडेक्स का कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट खरीदते हैं। अधिक विशिष्ट होने के लिए, आप Nifty नवंबर 13000 सीई विकल्प अनुबंध खरीद सकते हैं क्योंकि आप उम्मीद करते हैं कि सूचकांक लगभग 13,000 तक बढ़ जाएगा। वैकल्पिक रूप से, आप इंडेक्स कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट को स्ट्राइक प्राइस के साथ खरीद सकते हैं जो इंडेक्स के करेंसी ट्रेडिंग मूल्य से कम है। लेकिन फिर, आपको इसके लिए अधिक प्रीमियम देना होगा, जो आपकी प्रारंभिक निवेश लागत को बढ़ा सकता है। कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट खरीदने पर, यदि इंडेक्स आपकी उम्मीदों के अनुरूप आगे बढ़ता है, तो आपको केवल एक अच्छा लाभ प्राप्त करने के लिए अपनी स्थिति को स्क्वायर-ऑफ करना होगा।


          इसी तरह, मान लीजिए कि आपके पास एक मंदी का दृष्टिकोण है और उम्मीद है कि सूचकांक समाप्त होने तक लगभग 11,000 के स्तर तक गिर जाएगा। ऐसे में आपको बस इतना करना है कि इंडेक्स के पुट ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट को अपनी पसंद के स्ट्राइक प्राइस के साथ खरीदना है। अधिक विशिष्ट होने के लिए, आप निफ्टी नवंबर 11,000 पीई विकल्प अनुबंध खरीद सकते हैं क्योंकि आप इसे लगभग 11,000 तक गिरने की उम्मीद करते हैं। और जब सूचकांक गिरता है, तो आप आसानी से अपनी स्थिति को स्क्वायर-ऑफ कर सकते हैं और अपने निवेश पर लाभ प्राप्त कर सकते हैं।


          जब निफ्टी डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट्स में ट्रेडिंग की बात आती है, तो ये निफ्टी ट्रेडिंग टिप्स में से कुछ हैं जिनका आप उपयोग कर सकते हैं। वास्तव में, विभिन्न निफ्टी ट्रेडिंग रणनीतियों की अधिकता है जिनका उपयोग आप सूचकांक के आंदोलन से लाभ प्राप्त करने के लिए कर सकते हैं।

          म्यूचुअल फंड के जरिए निफ्टी में निवेश

          इंडेक्स फंड जैसे म्यूचुअल फंड में शेयरों का वही पोर्टफोलियो होता है जो निफ्टी जैसे इंडेक्स में होता है। यह प्रभावी रूप से इन फंडों को एक सूचकांक के प्रदर्शन को ट्रैक करने की अनुमति देता है, जिससे निवेशकों को उक्त सूचकांक द्वारा वहन की जाने वाली मूल्य निर्माण प्रक्रिया में भाग लेने की अनुमति मिलती है। अन्य म्यूचुअल फंडों के विपरीत, इंडेक्स फंड अधिक लागत प्रभावी होते हैं, बेहतर विविधीकरण की पेशकश करते हैं, और निवेशकों को अच्छा रिटर्न प्रदान करने की अधिक संभावना रखते हैं। निफ्टी इंडेक्स फंड में निवेश करके, आप निफ्टी 50 इंडेक्स के सभी 50 घटकों में प्रभावी रूप से निवेश कर रहे होंगे, जिससे आपको व्यापक बाजार एक्सपोजर मिलेगा।








          रविवार, अगस्त 22

          Large Cap, Mid Cap and Small Cap

          अगस्त 22, 2021 0
          Large Cap, Mid Cap and Small Cap

          Large Cap, Mid Cap and Small Cap

          Large Cap, Mid Cap and Small Cap

          Large Cap, Mid Cap and Small Cap के बीच अंतर

          यदि आप एक शुरुआत कर रहे हैं जो केवल stock trading में उद्यम कर रहा है, या भले ही आप कुछ समय के लिए बाजारों में दबदबा कर रहे हों, लेकिन इक्विटी से जुड़ी कई अवधारणाओं की गहरी समझ नहीं है, तो आपको इससे जुड़ी बहुत सारी शब्दावली मिल सकती है इक्विटी ट्रेडिंग अस्पष्ट या अस्पष्ट। यह विशेष रूप से सच है जब आप अगले में निवेश करने के लिए किस प्रकार के शेयरों की खोज कर रहे हैं या किस प्रकार के म्यूचुअल फंड को खरीदना है

          जब आप इस दुविधा के बारे में ऑनलाइन कोई प्रश्न पूछते हैं, तो आपको कई तरह के सुझाव और राय मिलेगी। कुछ आपको स्टॉक या फंड के नाम दे सकते हैं, जबकि अन्य आपको व्यापक सलाह दे सकते हैं, जैसे Large Cap फंड में निवेश करना या 
          Small Cap  फंड से दूर रहना।

          लेकिन 
          Large Cap, Mid Cap and Small Cap का क्या मतलब है? और Large Cap, Mid Cap and Small Cap में क्या अंतर है? इन बातों को समझने के लिए, बुनियादी बातों से शुरुआत करना और यह समझना महत्वपूर्ण है कि मार्केट कैप क्या दर्शाता है।
          बाजार पूंजीकरण क्या है?

          बाजार पूंजीकरण की तकनीकी परिभाषा, जिसे अक्सर market cap कहा जाता है, यह है कि यह किसी कंपनी के बकाया शेयरों का बाजार मूल्य है। सरल शब्दों में, किसी कंपनी के शेयरधारकों द्वारा रखे गए सभी शेयरों का बाजार मूल्य बाजार पूंजीकरण के रूप में जाना जाता है

          आइए इसे बेहतर ढंग से समझने के लिए एक त्वरित उदाहरण देखें।

          मान लीजिए कि एक कंपनी है जिसके शेयर स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हैं। अगर कंपनी के पास लगभग 10 लाख शेयर हैं जो वर्तमान में रुपये पर कारोबार कर रहे हैं। शेयर बाजार में प्रत्येक में 500, उस कंपनी का बाजार पूंजीकरण रु। 50 करोड़ (10 लाख शेयर x 500 रुपये प्रत्येक)।

          इससे आपको किसी कंपनी के market cap के फॉर्मूले के बारे में कुछ जानकारी मिलनी चाहिए, जो नीचे दिए गए अनुसार है।

          बाजार पूंजीकरण = बकाया शेयरों की कुल संख्या को प्रत्येक शेयर के बाजार मूल्य से गुणा किया जाता है

          Large Cap, Mid Cap and Small Cap फंड क्या हैं?

          बाजार पूंजीकरण के आधार पर, कंपनियों को तीन अलग-अलग श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है:
          बड़ी टोपी
          मध्यम दर्जे की कंपनियों के शेयर
          छोटी टोपी

          Large Cap, Mid Cap and Small Cap कंपनियां क्या हैं? औरLarge Cap, Mid Cap and Small Cap  स्टॉक में क्या अंतर है? वर्ष 2017 में, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड ने कंपनियों को उनके मार्केट कैप के अनुसार वर्गीकृत करने के लिए कुछ नियम निर्धारित किए। यह निवेश और व्यापार के संदर्भ में वित्तीय बाजारों में एकरूपता बनाए रखने के इरादे से किया गया था।


          Large Cap कंपनियां

          सेबी के नियमों के अनुसार, स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध सभी कंपनियों को उनके market cap के आधार पर रैंक किया जाता है। और शीर्ष 100 कंपनियों को Large Cap कंपनियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है। फिर, Large Cap फंड क्या हैं? इन Large Cap कंपनियों के शेयरों में निवेश करने वाले म्यूचुअल फंड को Large Cap फंड के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

          Large Cap कंपनियों का आमतौर पर एक उत्कृष्ट ट्रैक रिकॉर्ड होता है। इन कंपनियों का मार्केट कैप आम तौर पर काफी अधिक होता है, जो लगभग रु। 20,000 करोड़ या अधिक। इन शेयरों को अक्सर निफ्टी और सेंसेक्स जैसे व्यापक बाजार सूचकांकों में शामिल किया जाता है , मुख्यतः क्योंकि वे बहुत मजबूत बाजार उपस्थिति का आदेश देते हैं।

          Mid Cap कंपनियां

          सेबी के वर्गीकरण के अनुसार, बाजार पूंजीकरण के मामले में 101 से 250 रैंक वाली कंपनियों को Mid Cap कंपनियों के रूप में जाना जाता है। उनका मार्केट कैप आम तौर पर रुपये से लेकर होता है। 5,000 से रु. 20,000 करोड़। चूंकि Mid Cap कंपनियों की बाजार में मध्यम से मजबूत उपस्थिति है, वे व्यापक बाजार सूचकांकों में व्यापक रूप से शामिल हो भी सकते हैं और नहीं भी।

          Small Cap कंपनियां

          सेबी के नियमों में कहा गया है कि market cap के मामले में 251वें स्थान से आगे आने वाली सभी कंपनियों को स्वचालित रूप से Small Cap कंपनियों के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। Small Cap कंपनियों का आमतौर पर लंबा ट्रैक रिकॉर्ड नहीं होता है। ये कंपनियां या तो अपेक्षाकृत नई स्टार्ट-अप हो सकती हैं या वे ऐसे व्यवसाय हो सकते हैं जो अभी भी विकास के चरण में हैं।

          market cap के संदर्भ में, ये कंपनियां आम तौर पर रुपये से नीचे आती हैं। 5,000 करोड़। और इसके परिणामस्वरूप, इन कंपनियों की बाजार में उपस्थिति कम या न के बराबर होती है, और इसलिए, ज्यादातर व्यापक बाजार सूचकांकों में शामिल नहीं होते हैं।
           [ स्रोत ]


          Large Cap, Mid Cap and Small Capके इस आर्टिकल में हम ने आप कोLarge Cap, Mid Cap and Small Cap के साथ जानकारी को साझा किया है।





          शुक्रवार, अगस्त 20

          bank nifty option strategy

          अगस्त 20, 2021 0

          ank nifty option strategy
          ank nifty option strategy

           bank nifty option strategy

          Bank Nifty बैंकिंग क्षेत्र के 12 उच्चतम कैप और सबसे अधिक तरल शेयरों का सूचकांक है। 2009 में शुरू किया गया, यह सूचकांक अब शेयर बाजार में भारी कारोबार कर रहा है, जिसमें बहुत सारे व्यापारी विशेष रूप से Bank Nifty में विशेषज्ञता रखते हैं। पिछले कुछ वर्षों में, bank nifty option के व्यापार पर ध्यान केंद्रित करने वाले कई व्यापारियों ने बैंक विकल्प व्यापार रणनीतियों की एक बड़ी संख्या तैयार की है और बाजार अब bank niftyमें व्यापार करने के तरीके पर bank nifty टिप्स और ट्यूटोरियल से भरा हुआ है।   bank nifty option ट्रेडिंग रणनीतियों का एक ब्रेकडाउन प्रदान करेगा और साथ ही साथ कई बैंक निफ्टी टिप्स और  bank nifty option टिप्स प्रदान करेगा जो संभावित रूप से आपको यह समझने में मदद कर सकता है कि bank nifty में व्यापार कैसे करें और भविष्य में बेहतर ट्रेड करें।


          bank nifty  के कई फायदे और नुकसान हैं। एक तरफ, इसकी उच्च अस्थिरता के कारण,bank nifty  उन व्यापारियों के लिए असाधारण रूप से आकर्षक है जो एक त्वरित लाभ उत्पन्न करना चाहते हैं, क्योंकि इस स्क्रिप्ट के साथ कीमतों में उछाल की संभावना अधिक है। यह विशेषता इंट्राडे व्यापारियों के लिए भी इसे और अधिक आकर्षक बनाती है, क्योंकि प्रति दिन 2-3% से अधिक लाभ मार्जिन एक व्यापारी के लिए एक अच्छा दिन का व्यापार है। हालाँकि, यह वही अस्थिरता है जो इस स्क्रिप्ट को बेहद जोखिम भरा बनाती है। सीधे शब्दों में कहें, 'क्या ऊपर जाता है तो नीचे आना चाहिए' की अवधारणा तेजी से आगे बढ़ती है, क्योंकि कीमत बढ़ने की संभावना है, और यदि आप समय पर अपना लाभ बुक करने या खराब व्यापार करने के लिए उपस्थित नहीं हैं, तो नुकसान की संभावना बढ़ जाती है , जैसा कि आपको कितना नुकसान हो सकता है।


          इसे ध्यान में रखते हुए, आइए bank nifty में व्यापार कैसे करें, bank nifty विकल्पों के साथ-साथ कुछ बैंक निफ्टी टिप्स और bank nifty option टिप्स कैसे व्यापार करें।


          1.  यह bank nifty option रणनीति केवल इंट्राडे ट्रेडिंग पर लागू होती है।

          सबसे पहले, अपने चार्टिंग सॉफ़्टवेयर में 5 मिनट का कैंडल चार्ट चार्ट करें। इसके बाद आपको उस बिंदु को चुनना होगा जिस पर आप अपनी रणनीति शुरू करेंगे। आपको या तो एक ऐसा बिंदु चुनना होगा, जिसमें पहली दो मोमबत्तियाँ या तो तेजी या दोनों मंदी की हों। यदि आपकी पहली दो मोमबत्तियां तेज हैं, तो आपको दूसरी मोमबत्ती के शीर्ष पर खरीद आदेश देना होगा। एक बार यह ट्रिगर हो जाने पर, स्टॉप लॉस ऑर्डर उसी मोमबत्ती के निचले हिस्से पर सेट किया जाना चाहिए। वैकल्पिक रूप से, यदि दो मोमबत्तियां मंदी की स्थिति में हैं, तो आप इसके ठीक विपरीत करते हैं और मोमबत्ती के निचले हिस्से में अपना खरीद आदेश मोमबत्ती की जांघ पर एक खरीद आदेश के रूप में रखे गए स्टॉप लॉस ऑर्डर के साथ रखते हैं।


          इस रणनीति को अंजाम देने के लिए कोई भी ब्रैकेट ऑर्डर को नियोजित कर सकता है। इस स्थिति में, आपका स्टॉप लॉस ऑर्डर आपकी मोमबत्ती की ऊंचाई के 40% पर सेट होता है। यहां हम 1:2 के अनुपात का पीछा कर रहे हैं और इसलिए, मोमबत्ती की ऊंचाई से दोगुनी ऊंचाई पर लक्ष्य रखा गया है। उदाहरण के लिए, यदि मोमबत्ती की ऊंचाई 40 अंक है, तो आप लक्ष्य आदेश को 80 अंक पर रखते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यदि दोनों मोमबत्तियां तेज हैं, तो आपको केवल बेचने के आदेश देने पर ध्यान देना चाहिए, और इसके विपरीत यदि पहली दो मोमबत्तियां मंदी की हैं।


          2. यह bank nifty option strategy दो भागों में विभाजित है। ट्रेड बेचें और ट्रेड खरीदें।

          1 Sell trade

          यदि बाजार एक अंतराल पर खुलता है (अंतिम दिनों से कम कीमत पर छलांग), तो आपको उस अंतर को भरने के लिए चार्ट की प्रतीक्षा करनी चाहिए। जब एक मोमबत्ती इस अंतर को भरती है, तो आप उस बिंदु पर एक बिक्री आदेश देते हैं। विश्लेषण और प्रवृत्ति अध्ययनों का अनुमान है कि इस बिंदु से कीमत गिरने की संभावना है। इसलिए बिक्री आदेश आपको कीमत में इस गिरावट से बचाता है।


          2 Buy Trade

          यह bank nifty option ट्रेडिंग रणनीति तब तैयार की जाती है जब बाजार एक अंतराल पर खुलता है। जब आप देखते हैं कि बाजार एक अंतराल पर खुल रहा है, तो आप एक बार फिर उस अंतर को भरने के लिए एक मोमबत्ती की प्रतीक्षा करते हैं और फिर उस बिंदु पर एक खरीद आदेश देने के लिए आगे बढ़ते हैं। इस रणनीति के 'बिक्री व्यापार' खंड के विपरीत, कीमत बढ़ने की भविष्यवाणी की जाती है, ऐसा होने से पहले आप खेल में त्वचा प्राप्त कर सकते हैं और बाद में संभवतः लाभ कमा सकते हैं। जबकि अंतर आमतौर पर एक दिन के भीतर भर जाता है, bank nifty option युक्तियों में से एक में कहा गया है कि यदि ऐसा नहीं है, तो आप आने वाले दिनों में अंतराल को भरने की प्रतीक्षा करें और फिर अपने आदेश दें।

          अपने लक्ष्य निर्धारित करना और घाटे को रोकना इन bank nifty option युक्तियों का एक अभिन्न चरण है। स्टॉप लॉस और लक्ष्यों को कहां रखा जाना चाहिए, इसका आकलन करने के लिए, समापन मोमबत्ती के ऊपर से एक क्षैतिज रेखा का चार्ट बनाएं। यह वह बिंदु भी है जिस पर आप अपना खरीद आदेश देते हैं, और एक बार जब बाजार इस अंतर को पूरा करने के लिए सही हो जाता है, तो आपका खरीद आदेश पूरा हो जाएगा। स्टॉप लॉस को क्लोजिंग कैंडल के निचले हिस्से में रखा जाना चाहिए। पिछले bank nifty option ट्रेडिंग [ ] रणनीति के समान, एक अन्य bank nifty  टिप लक्ष्य को मोमबत्ती की ऊंचाई से दोगुनी ऊंचाई पर रखना है। उदाहरण के लिए, यदि मोमबत्ती 50 इकाई है, तो आपका लक्ष्य सौ पर सेट होना चाहिए।

          इस bank nifty option रणनीति के कुछ प्रमुख पहलू हैं। पहला यह कि सफल होने के लिए आपकी पसंद का गैप 100 अंक या उससे अधिक का होना चाहिए। यदि यह 100 से नीचे है, तो आप अगले अंतराल की प्रतीक्षा करें और इस एक ओवर को छोड़ दें। आप इस उद्देश्य के लिए 15 मिनट की समय सीमा चार्ट का उपयोग कर सकते हैं।[ [स्रोत]


          गुरुवार, अगस्त 19

          Beginners Share Market Investment शुरुआती शेयर बाजार निवेश

          अगस्त 19, 2021 0

           
          शुरुआती शेयर बाजार निवेश
          शुरुआती शेयर बाजार निवेश

          शुरुआती शेयर बाजार निवेश

          शेयर बाजार क्या है?

          शुरुआत करने के लिए शेयर बाजार क्या है, इस पर ध्यान दिए बिना शुरुआती लोगों के लिए शेयर बाजार के लिए एक गाइड अधूरा है। शेयर बाजार एक ऐसी जगह है जहां शेयर सार्वजनिक रूप से जारी किए जाते हैं और उनका कारोबार होता है। एक शेयर एक दस्तावेज के रूप में कार्य करता है जो किसी कंपनी में आपके स्वामित्व को मान्य करता है, और आप इस दस्तावेज़ को दूसरों को बेच सकते हैं। शेयर बाजार एक ऐसी जगह है जहां खरीदार और विक्रेता दस्तावेजों के इस आदान-प्रदान के लिए मिलते हैं। सार्वजनिक रूप से एक्सचेंज की सुविधा के लिए, निवेशकों के लिए अपने शेयर खरीदने और बेचने के लिए एक औपचारिक बाजार स्थान विकसित किया गया है। अब आइए शुरुआती लोगों के लिए शेयरों में निवेश को संबोधित करें।


          शुरुआती लोगों के लिए शेयर बाजार में निवेश कैसे करें?

          शुरुआती लोगों के लिए स्टॉक मार्केट गाइड में एक प्रमुख तत्व विभिन्न तरीकों से बाजार में सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध शेयरों में पैसा निवेश कर सकता है। इसके लिए निम्नलिखित आवश्यकताएं आवश्यक हैं:


          1. स्टॉक में निवेश के लिए आवश्यक दस्तावेज

          आपका पैन कार्ड

          आपका आधार कार्ड

          आपके सक्रिय बैंक खाते से रद्द किए गए चेक पर आपका नाम

          आपके ब्रोकर, डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट या बैंक द्वारा स्वीकार किए गए दस्तावेजों की सूची के आधार पर आपके निवास का प्रमाण

          दस्तावेज़ जो विवरण देते हैं कि आप आय अर्जित करते हैं

          आप की पासपोर्ट आकार की तस्वीरें

          2. डीमैट खाता

          एक डीमैट खाता वह होता है जो खाताधारक के नाम पर किसी के शेयर रखता है। एक डीमैट खाता आपके शेयरों के लिए एक इलेक्ट्रॉनिक हाउस के रूप में कार्य करता है। इसे एक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट की मदद से ऑनलाइन खोला जाता है। कई बैंक अपने निवेशकों को डीमैट खाता सेवाएं भी प्रदान करते हैं। डीमैट खाता खोलना एक परेशानी मुक्त प्रक्रिया है जिसे कुछ ही मिनटों में घर पर आराम से किया जा सकता है।


          3. ट्रेडिंग खाता

          एक डीमैट खाता और ट्रेडिंग खाता साथ-साथ चलते हैं। डीमैट का अर्थ है 'डीमैटरियलाइज्ड' जो इंगित करता है कि यह आपके शेयरों का भंडार है। दूसरी ओर, एक ट्रेडिंग खाता, वह खाता है जिसके साथ आप उन प्रतिभूतियों को खरीदते और बेचते हैं जिन्हें आप शेयर बाजार में व्यापार करना चाहते हैं। जब शुरुआती लोगों के लिए शेयरों में निवेश करने की बात आती है, तो आप डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट दोनों के बिना ऐसा नहीं कर सकते। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज दोनों प्राथमिक एक्सचेंज हैं जहां सबसे अच्छी गुणवत्ता वाले स्टॉक सूचीबद्ध हैं। हालाँकि, कुछ स्टॉक इन दोनों एक्सचेंजों में से किसी एक पर ही उपलब्ध हो सकते हैं। इसलिए, एक सामान्य युक्ति यह है कि आप अपना ट्रेडिंग खाता एक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट के साथ खोलें जो बीएसई और एनएसई दोनों पर ट्रेडिंग की पेशकश करता है।


          डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट के बीच अंतर भी पढ़ें।


          4. लिंक्ड बैंक खाता

          जैसा कि आप शेयरों में निवेश करना चुन रहे हैं, आप समय के साथ उन्हें खरीद और बेचेंगे। इसके लिए आपको एक बैंक खाते की आवश्यकता होगी जो आपके ट्रेडिंग खाते से जुड़ा हो। यह सुनिश्चित करता है कि जब आप व्यापार करते हैं तो पैसा आपके खाते में और बाहर निर्बाध रूप से प्रवाहित होता है। यह अधिकांश दलालों द्वारा अनिवार्य है जिनके साथ आप एक डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलना चुनेंगे।


          इन दिनों आप एक में दो खाते पा सकते हैं जो एक डीमैट खाते और एक ट्रेडिंग खाते दोनों के रूप में काम करते हैं। कुछ ब्रोकर एक खाते में तीन की पेशकश भी करते हैं जहां कोई सीधे अपने बैंक खाते से व्यापार कर सकता है और अपनी प्रतिभूतियों को उसी स्थान पर संग्रहीत कर सकता है।


          निवेश प्रक्रिया

          तो निवेश प्रक्रिया कैसी दिखती है? शुरुआती लोगों के लिए शेयर बाजार में निवेश करने के लिए एक गाइड के रूप में, निम्नलिखित दोनों प्रकार के बाजारों में निवेश के लिए निवेश प्रक्रिया को कवर करेगा: प्राथमिक और द्वितीयक दोनों।


          प्राथमिक शेयर बाजार में निवेश

          जब कोई प्राथमिक शेयर बाजार में निवेश करना चुनता है, तो वे प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश या आईपीओ के माध्यम से ऐसा कर सकते हैं। ऐसा करने के लिए किसी को अपने शेयरों की इलेक्ट्रॉनिक प्रतियों के साथ-साथ एक ट्रेडिंग खाते को रखने के लिए एक डीमैट खाते की आवश्यकता होगी ताकि वे ऑनलाइन आवेदन कर सकें। कुछ मामलों में, कोई अपने बैंक खाते के माध्यम से भी आवेदन कर सकता है। आईपीओ के प्रति बाजार की प्रतिक्रिया के आधार पर आपको कुछ चुनिंदा शेयर आवंटित किए जाएंगे। एक बार जब सभी आईपीओ आवेदन प्राप्त हो जाते हैं और कंपनी द्वारा गिना जाता है, तो उन शेयरों को मांग और उपलब्धता के आधार पर आवंटित किया जाता है।


          एक प्रक्रिया के माध्यम से अपने नेट बैंकिंग खाते के माध्यम से आईपीओ के लिए आवेदन करना काफी सरल है, जिसे एप्लिकेशन सपोर्टेड बाय ब्लॉक्ड अमाउंट (एएसबीए) के रूप में जाना जाता है। इस प्रक्रिया में, यह मानकर कि आपने ₹1 लाख के शेयरों के लिए आवेदन किया है, यह राशि सीधे कंपनी को भेजे जाने के बजाय आपके बैंक खाते में ब्लॉक कर दी जाएगी। एक बार जब आपके शेयर आवंटित हो जाते हैं, तो शेष राशि जारी होने के साथ सटीक राशि को डेबिट कर दिया जाता है। सभी आईपीओ आवेदनों को अनिवार्य रूप से इस प्रक्रिया का पालन करना होगा। एक बार शेयर आवंटित हो जाने के बाद, वे स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हो जाते हैं, और आप एक सप्ताह के भीतर उनका व्यापार शुरू कर सकते हैं।

          द्वितीयक शेयर बाजार में निवेश

          द्वितीयक बाजार वह है जिसे आम तौर पर शेयर बाजार के रूप में जाना जाता है। यह वह बाजार है जहां निवेशकों के बीच स्टॉक खरीदने और बेचने की सारी कार्रवाई होती है। द्वितीयक शेयर बाजार में निवेश करने के लिए, आपको एक डीमैट खाते की आवश्यकता होती है जो आपके बैंक खाते से जुड़ा होना चाहिए।


          जब द्वितीयक बाजार में शुरुआती लोगों के लिए शेयरों में निवेश करने की बात आती है, तो किसी के लिंक किए गए बैंकिंग खाते का उपयोग करके डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलना महत्वपूर्ण होता है।

          अगला कदम उस ट्रेडिंग खाते में लॉग इन करना है।

          फिर आगे बढ़ें और उन शेयरों को चुनें जिन्हें आप बेचना या खरीदना चाहते हैं।

          सुनिश्चित करें कि आपके खाते में आवश्यक राशि है जो आपको शेयर खरीदने में मदद कर सकती है। वैकल्पिक रूप से, यदि आप बेचना चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपके पास बेचने से पहले शेयरों की सही मात्रा है।

          इसके बाद, वह कीमत तय करें जिस पर आप शेयर खरीदना चाहते हैं बनाम इसे बेचना।

          खरीदार या विक्रेता के उस अनुरोध के प्रति प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा करें।

          धन/शेयरों को स्थानांतरित करके अपना शेयर बाजार लेनदेन पूरा करें और आपको धन/शेयर प्राप्त होंगे।

          हालांकि यह नौसिखियों के लिए जटिल लग सकता है, जैसा कि ऊपर बताया गया है, शुरुआती लोगों के लिए शेयरों में निवेश करने की प्रक्रिया काफी सरल है। ध्यान रखें कि शेयर बाजार में निवेश करने से पहले किसी के निवेश क्षितिज और वित्तीय लक्ष्यों से अवगत होना महत्वपूर्ण है।

          Why Stock Market is needed?

          अगस्त 19, 2021 0


          Why Stock Market is needed?
          Why Stock Market is needed?

          Stock Market की जरुरत क्यों है? Why Stock Market is needed?:

          STOCK MARKET की जरुरत क्यों है? WHY STOCK MARKET IS NEEDED?

          अगर आपके मन में ये प्रश्न आता है, की Stock Market की जरुरत क्यों है? Why Stock Market is needed?

          तो आज हम इसी पर चर्चा करेंगे की आखिर ऐसा क्यों है? आईये अलग अलग नजर से देखते है की STOCK MARKET की जरुरत क्यों है ? सबसे पहले देखते है –

          देश की अर्थव्यवस्था की नजर से- SHARE MARKET देश के अर्थव्यवस्था में खून की तरह है, किसी भी देश का शेयर बाजार उस देश की प्रगति का सूचक होता है , शेयर बाजार देश की औधोगिक प्रगति (Industrial Development) और आर्थिक व्यवस्था (Economy system) की स्थिति के बारे में भी बताता है ,वैसे तो STOCK MARKET का देश की प्रगति में बहुत योगदान है, लेकिन इसके कुछ विशेष योगदान है जैसे –

          देश की अर्थव्यवस्था में STOCK MARKET का योगदान –

          औधोगिक प्रगति (Industrial Development) के लिए पूंजी की कमी को दूर करना,

          देश में आर्थिक संतुलन ( Economy Stability) प्रदान करना,

          सभी को Stock Market से लाभ उठाने का मौका देना,

          पूंजी बाजार पर नियत्रण – Control On Capital Market STOCK MARKET की जरुरत – निवेशक की नजर से STOCK MARKET में SHARES की खरीद और विक्री होती है ,

          और एक शेयर खरीदने वाले को शेयर बेचने वाले और इसी तरह बेचने वालो को खरीदने वाले की जरुरत होती है,

          और ये सब कुछ STOCK MARKET की मदद से बहुत ही आसानी से हो जाता है, STOCK MARKET के बगैर आम आदमी SHARES खरीदने और बेचने के बारे में सोच भी नहीं सकता,

          आइये देखते है STOCK MARKET से निवेशक को फायदे- MARKET PLACE -शेयर खरीदने और बेचने के लिए एक MARKET PLACE ,

          जो सब लोगो के लिए आसानी से उपलब्ध हो, STOCK EXCHANGE या STOCK MARKET की मदद से आसानी से ऐसा होना संभव है,

          EASY ACCESS TO COMMAN MAN -STOCK MARKET की मदद से आज कोई भी शेयर आप आसानी से कही से भी NTERNET की मदद से खरीद और बेच सकते है,

          LIQUIDITY -STOCK MARKET की वजह से आपको STOCK INVESTMENT में CASH LIQUIDITY का बहुत बड़ा फायदा मिलता है, आप STOCK जब चाहे खरीद और बेच सकते है,

          और आपको CASH के बदले SHARE या SHARE के बदले CASH आसानी से मिल जाता है,

          DIGITAL STOCK WALLET- STOCK MARKET की वजह से हमें SHARES के रख रखाव को लेकर कोई चिंता करने की जरुरत नहीं,

          हमारे सभी शेयर STOCK WALLET यानी DEMAT ACCOUNT में बिलकुल सुरक्षित होते है,

          लाभ का मौका –देश का शेयर बाजार हर किसी को मौका देता है की वो STOCK MARKET में निवेश से अच्छा लाभ कमाए,

          STOCK MARKET की मदद से कोई भी कही से भी निवेश कर सकता है, STOCK MARKET की जरुरत – उधोगो की नजर से STOCK MARKET आज हर बड़ी कंपनी के लिए पूंजी प्राप्त करने का सबसे बेहतर विकल्प है, STOCK MARKET का किसी COMPANY के लिए क्या महत्व है- LONG TERM FINANCE – STOCK MARKET द्वारा कंपनी को मिलने वाली पूंजी जब तक कंपनी रहेगी तब तक के लिए है, कंपनी पर किसी तरह की पूंजी वापस करने की कोई जिम्मेदारी नहीं होती,

          इस लिए कंपनी STOCK MARKET से प्राप्त पूंजी LONG TERM FINANCE होता है, पूंजी पे व्याज का बोझ नहीं – STOCK MARKET से प्राप्त पूंजी LONG TERM पूंजी के साथ-साथ, ऐसी पूंजी होती है,

          जिस पे उसे किसी तरह का कोई व्याज नहीं देना होता, जबकि किसी भी अन्य तरह के LOAN पे कंपनी को व्याज देना पड़ता है, LIMITED RISK – STOCK MARKET में LISTED कंपनी में जिस व्यक्ति के पास जितने SHARE होते है, वो व्यक्ति सिर्फ उन शेयर्स के मूल्य तक ही उत्तरदायी होता है, यानी उस कंपनी के शेयर होल्डर्स का रिस्क शेयर्स के मूल्य के हद तक सिमित होता है, शेयर बाजार में सही तरह से निवेश के द्वारा किसी भी अन्य निवेश की अपेक्षा ज्यादा लाभ कमाया जा सकता है।


          [स्त्रोत]